केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा का मुख्य द्वार नहीं खोलने पर भाकपा (माले) और आइसा करेगी आंदोलन
राज्यों की खबरें

केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा का मुख्य द्वार नहीं खोलने पर भाकपा (माले) और आइसा करेगी आंदोलन

 

समस्तीपुर/पूसा :- डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय का मुख्य द्वार नहीं खोलने पर भाकपा (माले) व छात्र संगठन आइसा आंदोलन करेगी। प्रखंड के महमदपुर देवपार में भाकपा (माले) प्रखंड सचिव अमित कुमार व आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार के पर्यवेक्षण में हुई बैठक में उक्त निर्णय लिया गया। पर्यवेक्षण कर रहे भाकपा (माले) प्रखंड सचिव अमित कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन अपनी मंशा स्पष्ट करे कि विश्वविद्यालय जनहित में कार्य करना चाह रही है या लोगों को मुख्य गेट बंद कर परेशान कर रही है।

उन्होंने कहा है कि विश्वविद्यालय की कई अनियमितता को उजागर कर माननीय राष्ट्रपति, आईसीएआर हेड ऑफिस व अन्य स्थानों पर साक्ष्य के साथ पत्र भेजकर जांच की मांग की जाएगी। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय इस बात से रुबरु है कि अनुमंडलीय अस्पताल पूसा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, प्रखंड मुख्यालय, थाना आदि स्थलों पर जाने का यह मुख्य मार्ग है। लोगों को इन जगहों पर घूम से दूसरे रास्ते से अधिक दूरी तय कर जाना पड़ता है। लोगों को परेशान कर विश्वविद्यालय ने स्पष्ट कर दिया है कि लोग परेशान हैं तो हमें क्या मतलब, हम अपनी मनमानी चलाएंगे।

आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा एलडीसी व जूनियर अकाउंटेंट क्लर्क का शॉर्टलिस्ट जारी करने में बड़े पैमाने पर धांधली की गई है। भाकपा (माले) व छात्र संगठन आइसा ने जब तक मुख्य द्वार नहीं खुलता तब तक धारावाहिक आंदोलन करने की घोषणा की है। धारावाहिक आंदोलन की शुरुआत 14 जून को स्टेट मैनेजर वीरेंद्र सिंह का पुतला फूंक कर किया जाएगा, इसके बाद धरना-प्रदर्शन किया जाएगा।

आइसा प्रखंड सचिव अजय कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय का कोरोना मुक्त होने के बाद भी मुख्य गेट बंद करना विश्वविद्यालय की मनमानी को दर्शाता है। जिससे लोगों में व्यापक आक्रोश है। नेताओं ने जनहित में द्वार खोलो आंदोलन में शामिल होने की अपील प्रखंडवासियों से की है। मौके पर माले नेता महेश सिंह, सुरेश कुमार समेत अनमोल कुमार,राजन कुमार, पंकज कुमार, संतोष कुमार, सुभाष कुमार, रवि कुमार, रूकेश कुमार, राकेश कुमार इत्यादि मौजूद थे।