राहुल द्रविड़ या रवि शास्त्री कौन होना चाहिए भारतीय टीम का कोच? शिखर धवन ने बताया दोनों में फर्क
खेल

राहुल द्रविड़ या रवि शास्त्री कौन होना चाहिए भारतीय टीम का कोच? शिखर धवन ने बताया दोनों में फर्क

राहुल द्रविड़ के नेतृत्‍व में भारतीय टीम ने श्रीलंका को पहले वनडे मैच में 7 विकेट से हरा दिया. जिसके बाद से ही इंग्‍लैंड दौरे पर गए मुख्‍य कोच रवि शास्‍त्री को सोशल मीडिया पर लोग ट्रोल करने लगे. दरअसल, इस समय भारत की दो अलग-अलग टीमें एक ही वक्त पर अलग-अलग फॉर्मेट की सीरीज़ के लिए दो देशों में मौजूद हैं. एक तरफ तो भारतीय टीम श्रीलंका दौरे पर है जिसके कप्तान शिखर धवन हैं. तो दूसरी टीम इंग्लैंड में है जिसके कप्तान विराट कोहली हैं.

दोनों टीमों के कोच भी अलग अलग हैं. जहां इंग्लैंड में इस वक्त रवि शास्त्री हैं तो राहुल द्रविड़ कोच के तौर पर श्रीलंका दौरे पर टीम के साथ हैं. राहुल द्रविड़ श्रीलंका दौरे पर टीम के मुख्‍य कोच है. द्रविड़ ने सीनियर टीम कोच के रूप में अपने करियर का विजयी डेब्‍यू किया. कल जब भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हराया तो सोशल मीडिया पर द्रविड़ छा गए वही रवि शास्‍त्री ट्रोल होने लगे. फैंस दोनों कोचों की टीमों के बीच एक मुकाबला कराने की मांग करने लगे.

कुछ फैंस का कहना है कि द्रविड़ के आने से टीम में अनुसाशन भी आ गया है और राहुल द्रविड़ को ही परमानेंट कोच बना देना चाहिए. एक पक्ष राहुल द्रविड़ को कोच के रूप में देखना चाहता है, तो वहीं कुछ लोग कोच रवि शास्त्री को इस पद से हटाए जाने के पक्ष में नहीं है। यह बहस इसलिए भी शुरू हो गई है, क्योंकि भारत शास्त्री के कोच रहते हुए अभी तक एक भी ICC ट्रॉफी नहीं जीत पाया है, जबकि द्रविड़ 2018 में अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के कोच थे।

बता दें कि रवि शास्त्री का कार्यकाल टी-20 वर्ल्ड कप-2021 तक है. ऐसे में यह कहना गलत नहीं कि उनके लिए इस बार सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा होने वाली है. शास्त्री का कार्यकाल आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के बाद पूरा हो जाएगा। ऐसे में ये कयास लगाए जा रहे हैं कि भारतीय टीम के अगले कोच पूर्व बल्लेबाज राहुल द्रविड़ हो सकते हैं। द्रविड़ ने अंडर-19 टीम के कोच रहते कई युवाओं को तैयार किया है। भारतीय टीम को श्रीलंका में 3 वनडे मैचों और इतने ही टी-20 मैचों की सीरीज खेलनी है।