समस्तीपुर बाजार समिति परिसर झील में तब्दील, हर ओर कीचड़ और पानी से स्तिथि नारकीय
राज्यों की खबरें

समस्तीपुर बाजार समिति परिसर झील में तब्दील, हर ओर कीचड़ और पानी से स्तिथि नारकीय

 

पिछले दो-तीन दिनों से लगातार हो रही मुसलाधार बारिश से वारिसनगर प्रखंड के कृषि उत्पादन बाजार समिति मथुरापुर परिसर में चारों ओर की सड़कें कहीं कीचड़ तो कहीं झील में तब्दील हो गई है। उत्तर बिहार के मशाला व्यवसाय के लिए यह प्रसिद्ध बाजार है। इसके साथ-साथ आलू-प्याज, हरी सब्जी, गल्ला तथा मशाला मंडी में आने वाले लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

टूटे-फूटे गड्डा युक्त सड़क पर जमे कीचड़युक्त पानी के कारण मजदूरों-किसानों तथा व्यवसायियों को नारकीय जीवन गुजारने को मजबूर होना पड़ता है। इस कीचड़ के कारण आए दिन लोग दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। लगभग दर्जनों व्यक्तियों का पैर, हाथ टूट चुका है। बावजूद बाजार समिति प्रशासन के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है। वहीं सरकार के द्वारा किसानों की बैठकी बाजार समिति परिसर में नही वसूलने के निर्देश को धत्ता बताते हुए यहां लगने वाले रविवारीय हाट के दिन सुबह से ही अवैध चुंगी व्यवसायियों से वसूल किया जाता है।

वहीं काफी संख्या में लोग अवैध झोपड़ियां बनाकर सड़क और नाला को अतिक्रमण कर लिया है। इस कारण भी पानी जम जाता है और कीचड़ में तब्दील हो जाता है। साथ हीं प्रशासनिक स्तर पर भी इस परिसर की सड़को का वर्षों से मरम्मत नही करवाने के कारण भी सड़क क्षतिग्रस्त होकर अपना अस्तित्व खो दी है। जिस कारण हल्की-फुल्की बारिश में भी यह सड़क कीचड़युक्त झील बन जाती है। किसान व छोटे दुकानदार तो मजबूरी में इसे पारकर गद्दीदार के पास जाते हैं। परंतु आम आदमी खरीदारी के लिए अंदर जाने से परहेज करते हैं। इसका प्रभाव यहां के व्यवसाय पर भी पड़ रहा है।

समस्तीपुर में मानसून का प्रवेश बिहार में हो गया है। अगले 12 घंटे में यह पूरी तरह सक्रिय हो जाएगा। इसके कारण पूरे बिहार में झमाझम बारिश होगी। इसके कारण अधिकतर क्षेत्रों में मानसून की बारिश होगी। मौसम विभाग के अनुसार 15 से 25 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से इस दौरान पुरबा हवा भी चलेगी।