25 जुलाई को कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक, विधायक अजित शर्मा के आवास पर बनेगी सरकार को घेरने की रणनीति
बिहार राज्यों की खबरें

25 जुलाई को कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक, विधायक अजित शर्मा के आवास पर बनेगी सरकार को घेरने की रणनीति

सेंट्रल डेस्क:  26 जुलाई से बिहार विधानमंडल का मानसून आहूत है. इसको लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों ने रणनीति बनानी शुरू कर दी है. महागठबंधन के घटक दल कांग्रेस ने भी पार्टी विधानमंडल दल की बैठक बुलायी है. 25 जुलाई को कांग्रेस विधानमंडल दल की बैठक होगी. जिसमें पार्टी के सभी एमएलए और एमएलसी हिस्सा लेंगे.

कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा के आवास पर बैठक होगी. जिसमें यह तय किया जाएगा विधानमंडल सत्र के दौरान पार्टी की क्या कुछ रणनीति होगी. किस रणनीति के आधार पर सरकार को घेरने का काम किया जाएगा. किन-किन मुद्दों को सदन में उठाना है. जनहित से जुड़े मुद्दों पर सरकार को घेरने को लेकर रणनीति बनायी जाएगी.

लेकिन कांग्रेस इस बार भी बिना नेता चुने ही उच्च सदन में शामिल होना चाहती है. विधान परिषद में कांग्रेस दल के नेता का कार्यकाल 6 मई 2000 को ही पूरा हो चुका है. 14 माह से उच्च सदन में कांग्रेस में नेता पद पर कोई नहीं है. कांग्रेस ने चुनाव के बाद विधायक दल का नेता अजीत शर्मा को चुन लिया, लेकिन बिहार विधान परिषद में नेता नहीं चुन पा रही. पूरा बजट सत्र भी बिना नेता का विधान परिषद में पार्टी ने बिता दिया.

अभी बिहार विधान परिषद में मदन मोहन झा, प्रेमचंद मिश्रा और समीर सिंह सदस्य हैं. तीनों पार्टी में महत्वपूर्ण पदों पर हैं. मदन मोहन झा प्रदेश अध्यक्ष हैं, प्रेमचंद मिश्रा और समीर सिंह कार्यकारी अध्यक्ष हैं. राजेश राम का MLC का टर्म 17 जुलाई 2021 को पूरा हो चुका है और वे सदस्य नहीं रहे.

बता दें कि बजट सत्र के दौरान बीजेपी ने अपना नेता नवल यादव को चुना. जेडीयू की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उच्च सदन में नेता हैं. मुख्यमंत्री होने के नाते नीतीश कुमार दोनों सदन के नेता है. यह भी इसलिए है कि वे उच्च सदन के सदस्य हैं. अगर नीतीश कुमार विधान परिषद के नेता नहीं रहते और विधायक रहते तो वे सिर्फ निम्न सदन के ही नेता रहते. आरजेडी की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी नेता हैं. सीपीआई के दो सदस्य हैं और उसकी ओर से केदार पांडेय नेता हैं. विकासशील इंसान पार्टी के एक सदस्य मुकेश सहनी हैं और उनकी पार्टी ने अपनी ओर से उन्हें उच्च सदन का नेता बनाया गया है.