इंडिगो मैनेजर हत्याकांड: बाइकर्स गैंग की तलाश में छापेमारी जारी, पुलिस का दावा
राज्यों की खबरें

इंडिगो मैनेजर हत्याकांड: बाइकर्स गैंग की तलाश में छापेमारी जारी, पुलिस का दावा

इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश हत्याकांड में एसआईटी ने शनिवार को एसकेपुरी, राजापुरपुल, दीघा और आनंदपुरी सहित कई जगहों पर छापेमारी की। दरअसल, एसआईटी को बाइकर्स गैंग के कुछ सदस्यों की तलाश है, जिनका नाम रूपेश की हत्या में सामने आ रहा है। 

सूत्रों की मानें तो पुलिस को यह खबर मिली है कि रुपेश की हत्या का ठेका बाइकर्स गैंग को दिया गया था। सीसीटीवी कैमरे में भी बाइकर्स गैंग के कुछ सदस्यों की तस्वीर सामने आयी है। फिलहाल कोई भी अपने ठिकाने पर मौजूद नहीं हैं। सभी फरार हैं। पूर्व में पुलिस टीम को इन अपराधियों का लोकेशन बिहार झारखंड में मिला था। लेकिन दोबारा पुलिस को कुछ अपराधियों के पटना में होने की जानकारी मिली। जिन अपराधियों की पुलिस को तलाश है वे पहले भी जेल की हवा खा चुके हैं। इस मामले में पुलिस टीम जल्द ही बड़ा खुलासा कर सकती है। इस घटना में शामिल मास्टरमाइंड तक पहुंचने से पहले पुलिस ठोस सुराग जुटा लेना चाहती है। अगर गोली मारने वाले अपराधी पकड़े जाते हैं तो मास्टरमाइंड भी सलाखों के पीछे होगा। 

झारखंड में अब भी कैंप कर रही पुलिस
पुलिस टीम इस मामले में अब भी झारखंड में कैंप कर रही है। कई शूटरों का लोकेशन कोडरमा में मिला था। उसके बाद उनका मोबाइल बंद हो गया। लिहाजा, पुलिस टीम को शक है कि शूटर कोडरमा से आगे भी भाग सकते हैं। पुलिस की जांच की दिशा भटकाने के लिए कोडरमा पहुंचने के बाद उन्होंने अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया। 

अपराधियों की बाइक को तलाश रही पुलिस
अपराधी जिस बाइक पर सवार होकर रूपेश की हत्या करने पहुंचे थे, उसकी तलाश की जा रही है। घटना को अंजाम देने के बाद शूटरों ने बाइक को एसके पुरी की ओर लगा दिया और आसानी से भाग निकले। अगर बाइक मिलती है तो चेचिस नंबर के जरिये उसके असली मालिक तक पहुंचा जा सकता है। यह भी पता चल जायेगा कि बाइक किसकी है। 

बाइकर्स गैंग से जुड़े दूसरे सदस्य भी हुये फरार
सूत्रों की मानें तो इस घटना को अंजाम देने में जैसे ही बाइकर्स गैंग के सदस्यों का नाम सामने आया सभी फरार हो गये। बाइकर्स गैंग के ऐसे सदस्य भी पटना छोड़ चुके हैं जो इस घटना में शामिल नहीं है। पुलिस टीम ने कइयों को पकड़ने के लिये छापेमारी की लेकिन कोई भी हाथ नहीं आया।