मधुबनी हत्याकांड के आरोपियों की गिरफ्तारी, तेजस्वी का सरकार पर अटैक, सुनाई खरी-खोटी CM नीतीश जी को थका हुआ बतलाया
राज्यों की खबरें

मधुबनी हत्याकांड के आरोपियों की गिरफ्तारी, तेजस्वी का सरकार पर अटैक, सुनाई खरी-खोटी CM नीतीश जी को थका हुआ बतलाया

मधुबनी नरसंहार के आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर एक बार फिर जबरदस्त हमला बोला है. तेजस्वी यादव ने आज सुबह सवेरे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार को खरी-खोटी सुनाई है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री होने के नाते नीतीश कुमार को मधुबनी नरसंहार की जवाबदेही लेनी चाहिए लेकिन इससे उलट नीतीश कुमार अपनी गर्दन बचाने के लिए पुलिस के पाले में गेंद डाल रहे हैं. तेजस्वी ने कहा कि इससे हैरत की बात और कुछ नहीं हो सकती कि राज्य का मुख्यमंत्री पुलिस के कंधे पर जिम्मेदारी डाल कर इतनी बड़ी घटना पर कुछ भी बोलने से बचना चाहता है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि राज्य में क्या कुछ चल रहा है, उन्हें बस अपनी कुर्सी बचाने से मतलब है. नीतीश कुमार पूरी तरह से फेल हो चुके हैं. तेजस्वी ने कहा कि बिहार में अपराधियों की बहार है. मुख्यमंत्री खुद अपराधियों को संरक्षण दे रहे हैं. अब बिहार में स्थिति ऐसी हो गई है कि यहां हत्याएं हो जाती हैं लेकिन सबूत होने के बावजूद भी पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाता है. इतना ही नहीं नीतीश कुमार ने उस एसपी और डीएसपी को जांच का जिम्मा सौंप दिया है जो खुद इस मामले में संलिप्त हैं तो ऐसे में पीड़ितों को न्याय मिलने का सवाल ही नहीं उठता.

तेजस्वी ने बताया कि जब कहीं कोई घटना होती है तो सबसे पहले फॉरेंसिक टीम को जांच के लिए भेजा जाता है लेकिन मधुबनी नरसंहार के मामले में अबतक किसी फॉरेंसिक टीम का कुछ अता पता नहीं है. मामले की निष्पक्ष जांच करने की बजाय आरोपी अधिकारियों को ही मामले की जांच का जिम्मा सौंप दिया गया है. उल्टा बिहार की पुलिस पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की बजाय आरोपियों की सुरक्षा करने में लगी हुई है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि विपक्ष ने मांग रखी थी कि पीड़ित परिवार को नौकरी दी जाए, मामले की निष्पक्ष जांच की जाए और परिवार को सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाए लेकिन अबतक सरकार की तरफ से कोई पहल नहीं किया गया है. पीड़ित परिवार की बात सुनने के बजाय नीतीश कुमार ने इस मामले से अपने हाथ खींच लिया है. तेजस्वी ने कहा कि पीड़ित परिवार वहां के स्थानीय विधायक विनोद नारायण झा पर भी कई आरोप लगा रहा है लेकिन अबतक इस तरफ जांच तक शुरू नहीं की गई है.

तेजस्वी ने कहा कि रुपेश हत्याकांड में भी अबतक सही तरीके से जांच नहीं की गई है. रुपेश की पत्नी के जांच से संतुष्ट नहीं होने के बावजूद भी पुलिस आरोपी को जेल में बंद कर अपनी पीठ थपथपा रही है. रुपेश हत्याकांड के अलावा बीते कुछ दिनों में कई हत्याएं हो चुकी हैं. राष्ट्रीय जनता दल के भी कई नेताओं की हत्याएं हो चुकी हैं लेकिन अबतक प्रशासन मौन है.

INPUT : फर्स्ट बिहार